Sunday, 18 August 2019, 7:28 AM

संस्कृति

पुरुष यूं ही नहीं पहनते जनेऊ, कारण जानेंगे तो हैरान रह जाएंगे

Updated on 25 January, 2014, 13:53
आपने देखा होगा कि बहुत से लोग बाएं कांधे से दाएं बाजू की ओर एक कच्चा धागा लपेटे रहते हैं। इस धागे को जनेऊ कहते हैं। जनेऊ का धार्मिक दृष्टि से बड़ा महत्व है। जनेऊ का निर्माण दो तूड़ियों से किया जाता है जिसमें तीन -तीन लपेट होते हैं। तीनों लपेट... आगे पढ़े

तब आंख मिचौली खेलते-खेलते क्यों बेचैन हो उठी राधा?

Updated on 25 January, 2014, 13:52
राधा कृष्ण की प्रेम कहानी और उनकी लीला युगों युगों से भक्तों को आनंदित करती आ रही है। राधा कृष्ण की ऐसी ही एक लीला गोवर्धन पर्वत के पास चल रही थी। श्रीराधा रानी भगवान श्रीकृष्ण और सखियों के साथ आंख मिचौली खेल रही थी। अचानक उनकी नज़र अपने पैरों पर... आगे पढ़े

कान्हा को पंसद तुलसी

Updated on 24 January, 2014, 22:09
वृंदावन। दो दिन तक हुई लगातार वर्षा से पंचकोसीय परिक्रमा मार्ग में लगे पेड़-पौधों को संजीवनी मिल गई। वृंदावन के प्राचीन स्वरूप को लौटाने के लिए हरियालीयुक्त वातावरण की पहल सरकारी और गैर सरकारी स्तर पर की जा रही है। सुनरख वनीकरण योजना में हजारों पौधों का रोपण किया गया। वन... आगे पढ़े

मौनी अमावस्या की तैयारी में जुटा मेला प्रशासन

Updated on 24 January, 2014, 22:09
इलाहाबाद। माघ मेले के प्रमुख स्नान पर्व मौनी अमावस्या के लिए तैयारियां शुरू हो गई हैं। मेला प्रशासन के लिए पिछले सप्ताह हुई बारिश के कारण हुई अव्यवस्था को ठीक करने की चुनौती है। व्यवस्था बनाने में जुटे अधिकारी इस चुनौती में ही मौनी अमावस्या की तैयारी को भी समाहित... आगे पढ़े

मौसम के हवाले मेले की रौनक

Updated on 24 January, 2014, 22:07
इलाहाबाद। बादलों की आगोश में माघ मेले की शाम। गुरुवार को सुबह से शुरू हुई बूंदा-बांदी देर शाम तक जारी रही, लेकिन मेले की रंगत में कमी नहीं आई। अभी पिछले सप्ताह बारिश से हुई अव्यवस्था ठीक भी नहीं हुई थी कि गुरुवार की बूंदाबांदी ने फिर कल्पवासियों को डरा... आगे पढ़े

धर्म की कार्यशाला है कल्पवास

Updated on 24 January, 2014, 22:07
इलाहाबाद। धर्म की कार्यशाला है कल्पवास। त्रिदेवों व शक्तिपीठों की भूमि प्रयाग प्राचीन काल से ही धर्म का क्षेत्र रही है। ऋषियों ने इस तपोभूमि पर यज्ञ करके संस्कृति को ऊर्जावान बनाया है। माघ मास में तीर्थराज का दर्शन, कीर्तन, दर्शन, मुक्ति दायक माना है। संत त्याग की प्रतिमूर्ति हैं। चाहकर... आगे पढ़े

जहां पर अर्जुन और भगवन शिव के बीच हुआ था युद्घ

Updated on 24 January, 2014, 13:16
महाभारत में एक कथा है कि युद्घ में विजय पाने के लिए श्री कृष्ण अर्जुन से कहते हैं कि भगवान शिव को प्रसन्न करो और उनसे पशुपतास्त्र प्राप्त करो। पशुपतास्त्र मिल जाने से सारे दिव्यास्त्र मिल जाएंगे। पशुपतास्त्र पाने के लिए अर्जुन तपस्या करने निकल पड़ते हैं। मान्यता है कि अर्जुन... आगे पढ़े

जब कबीर के भंडारे में भैंस बनकर भोजन करने आए राम

Updated on 24 January, 2014, 13:15
संत कबीरदास प्रायः गाया करते थे, कबिरहिं फिकर न राम की घूमत मस्त फकीर। पीछे-पीछे राम हैं, कहत कबीर-कबीर। एक शिष्य ने उनसे कहा, गुरुजी, जब प्रभु राम आपके पीछे-पीछे घूमते हैं, तो क्यों न हमें भी एक बार उनके दर्शन का सौभाग्य मिले। कबीरदास ने कहा, भैया, भगवान उसे दर्शन... आगे पढ़े

हज यात्रा पर जाने के लिए एक फरवरी से करें आवेदन

Updated on 24 January, 2014, 12:21
लखनऊ। इस बार प्रदेश के हज यात्रियों पर सेंट्रल हज कमेटी की दोहरी मार पड़ रही है। एक तरफ जहां पिछली बार के आवेदकों के लाखों रुपये की अदाएगी नहीं हो सकी है वहीं, इस साल के आवेदकों को यात्रा के लिए पांच हजार रुपये का अतिरिक्त भार उठाना पड़ेगा। हज... आगे पढ़े

तीर्थराज में एक ओर प्रवचन, दूसरी और पिकनिक

Updated on 24 January, 2014, 12:20
इलाहाबाद। बांध के दोनों ओर का इलाका अपनी विशेषताओं की सजधज के साथ तैयार हो चुका है। अगर प्रयाग में माघ मेला है तो माघ मेले में बांध से दो मेला देखा जा सकता है। एक ओर संगम की रेती पर प्रवचन चल रहा है तो परेड ग्राउंड पर पिकनिक। संगम... आगे पढ़े

जीवन सुधारने का मौका है कल्पवास

Updated on 24 January, 2014, 12:18
इलाहाबाद। माघ मेले के दौरान एक महीने का कल्पवास मानव को जीवन में की गई गलतियों को सुधारने का मौका है। कल्पवास में सुविधा की आशा से नहीं बल्कि जो भी व्यवस्था हो उसी में रहते हुए भगवत भजन करने की दृढ़ इच्छा शक्ति से आना चाहिए। पहले और अब... आगे पढ़े

थमे श्रद्धालु के कदम..

Updated on 24 January, 2014, 12:17
वृंदावन। सर्द मौसम और दो दिनों से लगातार हो रही बरसात ने श्रद्धालुओं के कदम रोक दिए हैं। मंदिरों में अचानक भीड़ गायब हो गई है। बाजार और दुकानों पर सुबह से शाम तक सन्नाटा पसरा नजर आ रहा है। मंगलवार सुबह अचानक अंधेरा छाने के बाद शुरू हुई बरसात... आगे पढ़े

बढ़ी सर्दी, पांच हजार मंदिरों में लड्डूगोपाल ने पहनी ऊनी पोशाक

Updated on 24 January, 2014, 12:16
वृंदावन। कंपकपाती ठंड में लाड़ले कन्हैया को ब्रजवासी ऊनी पोशाक पहना रहे हैं। खाने में तिल के लड्डू, खीर में केसर और पंचमेवा परोस रहे हैं। इससे भी दिल न भरा तो चांदी की अंगीठी में कोयला जला अपने कान्हा को गर्मी देने की कोशिश में जुटे हैं भक्त। बांकेबिहारी मंदिर... आगे पढ़े

कृष्ण का साक्षात स्वरूप है भागवत

Updated on 24 January, 2014, 12:14
आगरा। भगवान श्रीकृष्ण का साक्षात स्वरूप भागवत पुराण है। श्रोता जब भी कथा सुनें, तो उन्हें यह अहसास होना चाहिए कि वह श्रीकृष्ण के मुख से सुनी गीता का श्रवण कर रहे हैं। इसे सुनने से जीवन का कल्याण होता है। बल्केश्वर नव युवा मंडल की ओर से श्रीमद् भागवत सप्ताह... आगे पढ़े

देश से बाहर गई संत कबीर की माला

Updated on 24 January, 2014, 12:13
वाराणसी। कबीर चौरा स्थित कबीरमठ से चोरी संतकबीर की छह सौ साल पुरानी माला देश से बाहर जा चुकी है। पूजा के बहाने कबीरमठ से माला चुराने वाले थाई नागरिकों ने गया में पहले से मौजूद तीन थाई युवतियों को माला सौंप दी थी। पुलिस को चकमा देने के लिए... आगे पढ़े

देवघर के बाबा मंदिर को मिला 7.09 लाख रूपए का चढ़ावा

Updated on 23 January, 2014, 9:27
देवघर। बाबा मंदिर को 15 दिसंबर से 15 जनवरी के बीच 7.09 लाख रूपए का चढ़ावा मिला। मंगलवार को दान पेटी खोलकर नोटों की गिनती की गई। दान पेटी से एक डालर भी निकला है। सहायक मंदिर प्रभारी दीपक मालवीय, बाबा मंदिर थाना के एएसआई उपेंद्र सिंह, मंदिर प्रबंधक रमेश... आगे पढ़े

पुरातात्विक धरोहरों पर मंडरा रहे खतरे के बादल

Updated on 23 January, 2014, 9:26
करौं। करौं शब्द से इतिहास का बोध होता है। महाभारत काल में यह अंग प्रदेश का एक भाग था। अंग प्रदेश के राजा कर्ण के नाम पर इस गांव का नाम करौं पड़ा। यहां का शिव मंदिर कर्णेश्वर शिव मंदिर के नाम से जाना जाता है। लोग कहते हैं कि... आगे पढ़े

नंगे पैर मंदिरों तक पहुंचे श्रद्धालु

Updated on 23 January, 2014, 9:24
वृंदावन। बारिश और बयार ने श्रद्धालुओं को हिलाकर रख दिया। मौसम का मिजाज तो खैर बदला ही था, बदइंतजामी ने भी मानो आस्था की परीक्षा ली। बारिश में भीगते और सड़कों पर उफन रहे पानी के बीच से नंगे पैर श्रद्धालु मंदिरों तक पहुंचे। सैकड़ों तीर्थ यात्रियों को सड़कों और... आगे पढ़े

एटीएस के हवाले रहेगा संगम नोज

Updated on 23 January, 2014, 9:23
इलाहाबाद। पुलिस की तैयारियों की असली परीक्षा मौनी अमावस्या के मुख्य स्नान पर्व पर होगी। इसके लिए अभी से सुरक्षा खाका तैयार कर लिया गया है। स्नान पर्व से पूर्व एंटी टेररिस्ट स्क्वायड (एटीएस) की एक और टीम संगम नगरी आ जाएगी। 82 सदस्यीय इस दल में 46 कमांडो सीधी... आगे पढ़े

'चिंतन' शिविरों में सियासत की 'धुनी'

Updated on 23 January, 2014, 9:22
इलाहाबाद। पवित्र संगम तट पर बसी तंबुओं की नगरी में धार्मिक आयोजनों के साथ ही सियासती धूनी रमने लगी है। कांग्रेस के आनुषांगिक संगठन सेवा दल ने सांप्रदायिक शक्तियों के खिलाफ माला जाप शुरू कर दिया है। वहीं भाजपा को आधार देने में लगी विहिप राष्ट्रवाद की मुहिम को धार... आगे पढ़े

धूप ने भर दी माघ मेले में जान

Updated on 23 January, 2014, 9:20
इलाहाबाद। मौसम की नाराजगी झेल रहे धर्म अध्यात्म के गढ़ में सूरज देवता का बेसब्र इंतजार मंगलवार को खत्म हुआ। मेला क्षेत्र पर सूरज की किरणों बिखरीं तो साधु-संतों और कल्पवासियों ने श्रद्धा से सिर नवाकर सूर्य देव का अभिवादन किया। सुनहरी चमकती किरणों ने मेले में प्राण फूंके तो... आगे पढ़े

प्यार चाहिए या पैसा, तब आपकी हर चाहत पूरी करेगा शंख

Updated on 22 January, 2014, 21:13
जैसी चाहत हो उस अनुसार सही शंख चुनें शंख के बारे में अगर आप यह सोचते हैं कि यह सिर्फ भगवान की पूजा के काम आता है तो इस धारणा को मन से निकाल दीजिए। शंख में ऐसी चमत्मकारी शक्तियां मौजूद होती हैं जो आपकी हर चाहत को पूरी कर सकता है।... आगे पढ़े

नहीं जानते होंगे, भगवान भी करते हैं भक्तों की परिक्रमा

Updated on 22 January, 2014, 12:52
एक बार अर्जुन ने भगवान श्रीकृष्ण से प्रश्न किया, आपको किन-किन सद्गुणों वाला भक्त प्रिय है? श्रीकृष्ण ने बताया, जो किसी प्राणी से द्वेष नहीं करता, सबसे मैत्री भाव रखता है, सब पर करुणा करता है, क्षमाशील है, ममता और अहंकार से रहित है, सुख-दुख में एक समान रहता है,... आगे पढ़े

कबीर माला चोरी प्रकरण: नार्को टेस्ट पर टली सुनवाई

Updated on 21 January, 2014, 21:59
वाराणसी। संत कबीर की छह सौ वर्ष पुरानी माला चोरी के मामले में सोमवार को सुनवाई टल गई। चोरी के मामले में गिरफ्तार तीन आरोपियों में से एक थाई नागरिक के उपस्थित न होने के कारण अदालत ने नार्को टेस्ट पर बहस के लिए चौबीस जनवरी की तिथि मुकर्रर की... आगे पढ़े

माघ मेला: कल्पवासियों की परेशानी खत्म ही नहीं हो रही

Updated on 21 January, 2014, 21:56
इलाहाबाद। पिछले माघ मेलों में एपीएल रेट पर खाद्यान्न वितरण किया जाता रहा, मगर इस बार कल्पवासियों को एपीएल दर से खाद्यान्न देने से भारत सरकार ने अपना हाथ पीछे खींच लिया है। यानी इस बार कल्पवासियों को दूने दाम पर अनाज लेना पड़ेगा। एक माह का कल्पवास का व्रत रखने... आगे पढ़े

आस्था की जड़ों ने दी मेले को 'संजीवनी'

Updated on 21 January, 2014, 21:53
इलाहाबाद। बारिश, कीचड़, जलप्लावन, पानी की किल्लत, अनाज की किल्लत जैसी तमाम मुसीबतें। अव्यवस्था को दरकिनार कर गंगा, यमुना व अदृश्य सरस्वती के पावन संगम के तट पर बसा आस्तिकों का मेला सोमवार को अपने पूरे रौ में आ गया। पंडाल गुलजार हो गए। रासलीला, रामलीला व प्रवचन की बयार बह... आगे पढ़े

अब एक महीने बाल और नाखून कटवाने से लगेगा पाप

Updated on 21 January, 2014, 14:53
कुल्लू : तीर्थ स्थलों में विख्यात नगरी मणिकर्ण के लोग एक माह तक बाल और नाखून नहीं कटवाएंगे। ऐसा इसलिए किया जाता है कि घाटी के देवी-देवता एक माह के लिए इंद्र सभा को रवाना होते हैं। इस परंपरा को यहां के बाशिंदे बखूबी निभाते आए हैं। हालांकि सुबह-शाम वाद्य यंत्रों... आगे पढ़े

इस आस्था के आगे बर्फ भी ठंडी नहीं लगती

Updated on 21 January, 2014, 14:51
दिल्ली : सर्दी के मौसम में जहां आप पानी गर्म करके स्नान करते हैं वहीं कुछ ऐसे लोग भी हैं जो कंपकपाती ठंड में बर्फ को काटकर उसके नीचे बहते पानी में डुबकी लगाते हैं। बर्फीले पानी में डुबकी इसलिए नहीं लगाते कि उन्हें ठंड नहीं लगती। ठंड उन्हें भी लगती... आगे पढ़े

पितरों की नाराजगी न बन जाए आपकी परेशानी का कारण

Updated on 21 January, 2014, 14:47
पितरों से संबंधित दोष पितृदोष कहलाता है। यहां पितृ का अर्थ पिता नहीं वरन् ऐसे पूर्वज हैं जो अपने कर्मों के कारण आगे नहीं जा सके और पितृलोक में ही रहते है। अपने प्रियजनों से उन्हे विशेष स्नेह रहता है। श्राद्ध या अन्य धार्मिक कर्मकाण्ड नहीं करने से जब वे... आगे पढ़े

एक अनूठा सिद्धपीठ, जहां शाक-सब्जियां का चढ़ता है चढ़ावा

Updated on 21 January, 2014, 14:14
सहारनपुर : उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले की शिवालिक पहाड़ियों पर स्थित मां शाकम्भरी सिद्धपीठ देवी भक्तों की अनन्य आस्था का केंद्र है. मार्कण्डेय पुराण, पद्म पुराण और दुर्गा सप्तशती में इस पौराणिक सिद्धपीठ की अधिष्ठात्री माता शाकम्भरी का उल्लेख मिलता है. इस पर्वत श्रृंखला का अनुपम प्राकृतिक सौंदर्य यहां... आगे पढ़े