रविवार के दिन सूर्य देव की आराधाना से मान सम्मान मिलता है। इस दिन व्रत रखने से सूर्यदेव शीघ्र प्रसन्न होते हैं। अगर आपके मन में कई सारी इच्छाएं और मनोकामनाएं हैं, तो आप उनको पूरा करने रविवार का व्रत करें। सूर्य देव की कृपा के लिए रविवार का व्रत सबसे श्रेष्ठ माना जाता है, क्योंकि ये व्रत सुख और शांति देता है। पौराणिक धार्मिक ग्रंथों में भगवान सूर्य के अर्घ्यदान का विशेष महत्व बताया गया है। रविवार का दिन सूर्य उपासना के लिए सर्वोत्तम है। ऐसा माना जाता है कि रविवार के दिन सूर्य की पूजा विशेष फलदाय़ी होती है। इससे मान-सम्मान और तेज की प्राप्ति होती है।
सूर्य देव को प्रसन्न करने के उपाय। 
तांबे के लोटे में जल लें
उसमें लाल फूल, चावल डालें
प्रसन्न मन से सूर्य मंत्र का जाप करते रहें
भगवान सूर्य को अर्घ्य दें
अर्घ्यदान से भगवान ‍सूर्य प्रसन्न होंगे
सूर्य पूजा के नियम-
रोजाना सूर्योदय से पहले शुद्ध होकर स्नान कर लें
इसके बाद सूर्यनारायण को तीन बार अर्घ्य देकर प्रणाम करें
संध्या के समय फिर से सूर्य को अर्घ्य देकर प्रणाम करें
सूर्य देव की कृपा से मिलेगी हृदय रोग से मुक्ति-
जल में लाल फूल डालकर सूर्यदेव को अर्पित करें
सूर्य देव को गुड़ का भोग लगाएं, लाल चन्दन की माला अर्पित करें  
"ॐ आदित्याय नमः" का जाप करें
पूजा के उपरान्त माला को गले में धारण करें  
 शत्रुओं पर विजय दिलाएंगे सूर्य देव-
रविवार के दिन उपवास रखें, नमक न खाएं
स्नान करके सूर्य देव को जल अर्पित करें.  
सूर्य की रौशनी में बैठकर "आदित्य ह्रदय स्तोत्र" का पाठ करें
- विजय प्राप्ति की प्रार्थना करें  
सूर्य देव देंगे मान-सम्मान
जल में  रोली, चन्दन और फूल मिलाएं  
इसे सूर्य देव को अर्पित करें  
ताम्बे का एक चौकोर टुकड़ा भगवान सूर्य को अर्पित करें  
"ॐ भास्कराय नमः" का जाप करें  
इसके बाद तांबे का चौकोर टुकड़ा अपने पास रख लें 
रविवार के दिन करें ये महा उपाय-
भगवान सूर्य को गुड़हल या आक के फूल अर्पित करें  
गेंहू, गुड़ और ताम्बे के बरतनों का दान करें  
उपवास रखें या सात्विक आहार ग्रहण करें  
रविवार को माणिक्य पहनें, विशेष लाभ होगा