कटनी की एक दिन की कलेक्टर बनीं अर्चना:मनचलों से दो बच्चियों को बचाया था, पीटते हुए थाने तक ले गई थीं; CM कर चुके हैं सम्मानित

बहादुर बेटी अर्चना केवट को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर एक दिन का कलेक्टर बनाया गया है। यह निर्णय कलेक्टर प्रियंका मिश्रा ने लिया है। इस दौरान अर्चना टाइम लिमिट की बैठक में विभागों का रिव्यू करेंगी और अफसरों को निर्देश देंगी।

सीधी हादसे में जिंदगियां बचाने वाली युवती की कहानी:एक कमरे में रहते हैं 8 भाई-बहन

अर्चना केवट ने कुछ दिन पहले दो बच्चियों को मनचलों से बचाया था। मनचलों को आसपास के लोगों की मदद से पीटते हुए थाने तक ले गई थीं। इसके बाद कटनी कलेक्टर प्रियंका मिश्रा ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर संदेश देने के लिए उन्हें एक दिन का कलेक्टर बनाया है। अर्चना के दौरे और बैठकों का मिनट टू मिनट कार्यक्रम भी घोषित किया गया है। वे महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित जिलास्तरीय कार्यक्रम शीरो में मुख्य अतिथि के रुप में शामिल होंगी। अर्चना विभिन्न शासकीय कार्यों को भी संभालेंगी।

दोपहर 12 बजे ग्राम पंचायत चाका में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर आयोजित विशेष ग्राम सभा में शामिल होंगी। इसके बाद अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के जिलास्तरीय कार्यक्रम में शामिल होने दोपहर 1 बजे बस स्टैंड स्थित ऑडिटोरियम पहुंचेंगी। दोपहर 3 बजे वन स्टॉप सेंटर का निरीक्षण और शाम 4 बजे बालिका गृह का निरीक्षण करेंगी।

इसलिए मिला सम्मान

गौरतलब है कि अर्चना ने अपने साहस और निडरता के दम पर आपराधिक तत्वों का सामना करते हुये उन्हें सलाखों तक पहुंचाने का साहसिक काम किया है। अर्चना ने बताया कि उसने कुछ दिन पूर्व मनचलों से दो बच्चियों को बचाया थ्का। उन्हें पीटा और पुलिस के हवाले कर दिया था। इसी बहादुरी के लिए मुख्यमंत्री ने भी अर्चना को सम्मानित किया है।