बिलासपुर । ऊर्जा संरक्षण उपायों को लागू करने में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे लगातार अग्रणी रहा है । इसी का परिणाम है कि वर्ष 2020-21 के लिए ऊर्जा मंत्रालय द्वारा ऊर्जा संरक्षण के लिए दिये जाने वाले प्रतिष्ठित पुरस्कार की श्रेणी में "सर्टिफिकेट ऑफ मेरिट" के लिए दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे का चयन किया गया है । यह पुरस्कार 14 दिसंबर, 2021 को विज्ञान भवन, नई दिल्ली में, ऊर्जा संरक्षण दिवस के अवसर पर आयोजित समारोह में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे को प्रदान किया जाएगा ।
ज्ञातव्य है कि ऊर्जा संरक्षण उपायों के अंतर्गत दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे ने न केवल ऊर्जा-दक्ष इलेक्ट्रिक इंजिनों तथा इलेक्ट्रिकल मल्टीपल यूनिट(ई.एम.यू.) ट्रेनों के प्रयोग को बढ़ावा दिया है बल्कि इन्हें चलाने वाले ड्रायवरों को भी विद्युत ऊर्जा के बचत के प्रति सजग बनाने के लिए समुचित ट्रेनिंग दी जा रही है । दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे में ऊर्जा बचत के लिए जहाँ एक ओर परम्परागत लाइटों व उपकरणों को नवीन ऊर्जा-दक्ष लाइटों व उपकरणों द्वारा चरणबद्ध तरीके से प्रतिस्थापित किया गया है, वहीं दूसरी ओर गैर-परम्परागत ऊर्जा-स्रोतों, जैसे-सौर ऊर्जा के उपयोग को भी निरंतर बढ़ावा दिया जा रहा है । इन उपायों को अमल में लाने से न केवल ऊर्जा संरक्षण को बढ़ावा मिला है बल्कि विद्युत ऊर्जा के क्षेत्र में होने वाले व्यय में भी उल्लेखनीय बचत होती है ।
गैर-परंपरागत श्रोतों से ऊर्जा उपलव्ध कराने एवं ऊर्जा संरक्षण की दिशा में बेहतर योगदान के तहत पूरे दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे में अनेकों जगह सोलर पावर प्लांट के निर्माण किए गये है । दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे में अब तक 4.636 मेगावाट क्षमता की सोलर प्लांट की स्थापना की गयी है । इसके अंतर्गत सभी महत्वपूर्ण स्टेशन बिल्डिंग, कार्यालयों, अस्पतालों, प्रशिक्षण केन्द्रों, रेलवे भर्ती बोर्ड भवन, रेलवे स्कूलों के साथ ही साथ प्राकृतिक ऊर्जा के संसाधनों का भरपुर उपयोग के लिए रनिंग रुम एवं अनेको लेवल क्रासिंगों में भी सौर उर्जा पैनल लगाये गए हैं । दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के भिलाई में 50 मेगा वाट का सोलर पॉवर प्लांट का निर्माण प्रगति पर है । वर्तमान वित्तीय वर्ष के अप्रैल से नवंबर’ 2021 तक दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे में सौर ऊर्जा से 29 लाख यूनिट बिजली का उत्पादन किया गया है ।
इसके साथ ही दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के सभी स्टेशन एवं कालोनी एवं कार्यालय ऊर्जा की बचत करने वाले एलईडी लाइट रौशन है, जिसके परिणाम स्वरूप दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे को ऊर्जा संरक्षण के लिए सर्टिफिकेट ऑफ मेरिट के लिए चयन किया गया है ।