रविवार यानी 14 मार्च, 2021 को एक बार फिर सूर्य के राशि बदलने से खरमास लगने जा रहा है। 14 मार्च को सूर्य कुंभ राशि से मीन राशि में प्रवेश करने जा रहे हैं तथा 14 अप्रैल 2021 तक यहीं रहेंगे। इसी के साथ एक माह के लिए सभी प्रकार के शुभ तथा मांगलिक काम बंद हो जाएंगे। मतलब अब यदि कोई शुभ काम कराना है तो 14 अप्रैल के पश्चात् शुभ मुहूर्त की प्रतीक्षा करें। बता दें कि प्रत्येक वर्ष दो बार खरमास लगता है। एक बार तब जब सूर्य धनु राशि में प्रवेश करते हैं तथा दूसरी बार तब जब वे मीन राशि में प्रवेश करते हैं। दोनों ही हालातों में गुरू बृहस्पति निस्तेज हो जाते है। जबकि शास्त्रों में किसी भी शुभ काम के लिए गुरु का होना जरुरी बताया गया है। यही कारण है कि खरमास के चलते सभी प्रकार के शुभ तथा मांगलिक कार्य बंद हो जाते हैं।

इन कामों की है मनाही:
इस बार सूर्यदेव 14 मार्च 2021 को शाम 6 बजकर 4 मिनट पर मीन राशि में प्रवेश करेंगे तथा 14 अप्रैल 2021 को प्रातः 2 बजकर 33 मिनट तक मीन राशि में रहेंगे। इस के चलते विवाह, सगाई, भूमि पूजन तथा गृह प्रवेश जैसे मांगलिक कार्य बंद रहेंगे। न ही इस मध्य किसी नए काम को आरम्भ करना चाहिए। वहीं इस के चलते लोंगों को किसी तरह की लड़ाई-झगड़ा नहीं करना चाहिए तथा न ही मिथ्या बोलना चाहिए। हालांकि पूजा-पाठ तथा धार्मिक लिहाज से खरमास का वक़्त बेहद अच्छा वक़्त माना जाता है।

शुभ है इन कामों को करना:
1. खरमास के चलते दान पुण्य करना चाहिए। इस समय किए गए दान का कई गुना बढ़कर लाभ मिलता है।
2. खरमास को प्रभु श्री विष्णु की खास पूजा का वक़्त माना जाता है। ऐसा करने से भगवान का आशीर्वाद प्राप्त होता है, घर में सुख समृद्धि आती है। इसके अतिरिक्त ये खरमास अपने इष्ट का ध्यान करने के लिए भी सबसे उत्तम माह माना जाता है।
3. अगर खराब ग्रहदशा से गुजर रहे हैं तो खरमास में निर्धनों को अन्न, वस्त्र अपनी सामर्थ्य के मुताबिक दान करना चाहिए। इससे आपके विभिन्न परेशानी दूर होती है।