याहू कभी दुनिया का नंबर वन सर्च इंजन था, लेकिन गूगल ने धीरे-धीरे इसकी बादशाहत पूरी तरह खत्म कर दी। अब माइक्रोसॉफ्ट कॉर्प ने याहू इंक को खरीदने के लिए 44.6 बिलियन डॉलर (करीब 3.3 लाख करोड़ रुपए) का ऑफर दिया है। इस डील की दम पर दोनों कंपनियां गूगल के लिए चुनौती खड़ी कर सकती हैं। याहू ने शुक्रवार को कहा कि उसका बोर्ड इस ऑफर पर विचार कर रहा है। 70 करोड़ यूजर बेस वाली याहू के शेयर की कीमत इस समय लगभग 48% बढ़कर 28.33 डॉलर (करीब 2090 रुपए) हो गई है।

ये पहली बार नहीं है कि जब माइक्रोसॉफ्ट ने याहू को खरीदने की पेशकश की हो। 2008 से कंपनी लगातार इसके लिए कोशिश कर रही है। माइक्रोसॉफ्ट ने याहू बोर्ड को एक लेटर लिखा है, जिसमें उसने प्रति शेयर 31 डॉलर नकद और स्टॉक की पेशकश की है। यदि ये डील होती है, तो यूजर्स को कई तरह के फायदे हो सकते हैं।

न्यूज, फाइनेंस और स्पोर्ट्स में याहू का दबदबा
याहू पर 500 मिलियन (50 करोड़) यूजर हर महीने न्यूज, फाइनेंस और स्पोर्ट्स के लिए आते हैं। कंज्यूमर ईमेल सर्विस में यह नंबर वन है। हालांकि, एक्सपर्ट्स का कहना है कि दोनों कंपनियों के कई ओवरलेपिंग बिजनेस हैं। इनमें इंस्टेंट मैसेजिंग से ईमेल और विज्ञापन शामिल हैं। न्यूज, ट्रैवल और फाइनेंस साइट के साथ वेब सर्च मार्केट भी है। हालांकि, इन सभी जगहों पर गूगल का दबदबा है।

गूगल से कॉम्पटीशंस में यूजर्स का फायदा
इसमें कोई दो राय नहीं है कि इंटरनेट की दुनिया का गूगल बेताज बादशाह है। गूगल सर्च इंजन से लेकर स्मार्टफोन के एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम तक गूगल सब कंट्रोल कर रहा है। ज्यादातर लोग गूगल के ऐप्स और सॉफ्टवेयर पर पूरी तरह डिपेंड हो गए हैं। यही वजह है कि गूगल अब धीरे-धीरे अपने कई सर्विसेज को पेड करता जा रहा है। सिर्फ गूगल फोटोज के लिए यूजर को 130 रुपए महीना खर्च करने पड़ सकते हैं।

ऐसे में माइक्रोसॉफ्ट के हाथ में याहू की कमान आ जाती है तब वो गूगल को चुनौती देने के लिए कई सर्विसेस लॉन्च कर सकती है। अभी याहू के पास ऐसी कई सर्विसेज हैं, जिनका फायदा माइक्रोसॉफ्ट उठा सकती है। इन सर्विसेस की दम पर वह गूगल के यूजर्स को अपनी तरफ खींच कर सकती है।

याहू सर्विसेस की लिस्ट

याहू सर्च इंजन
याहू मेल
याहू एंटरटेनमेंट
याहू फाइनेंस
याहू लाइफस्टाइल
याहू मेल
याहू न्यूज
याहू रिसर्च
याहू शॉपिंग
याहू स्मॉल बिजनेस
याहू स्पोर्ट्स
याहू ट्रैवल

याहू के पास 70 करोड़ यूजर्स
2019 में माइक्रोसॉफ्ट के विंग सर्च इंजन पर सिर्फ अमेरिका में 126 मिलियन (12.6 करोड़) यूजर्स थे। कमाल की बात ये है कि यहां पर गूगल सर्च इंजन से ज्यादा लोग विंग सर्च इंजन का इस्तेमाल करते हैं। वहीं, 2016 में याहू सर्च इंजन पर हर महीने करीब 700 मिलियन (70 करोड़) यूजर्स आते थे। इनमें हर महीने एक्टिव यूजर्स की संख्या 225 मिलियन (22.5 करोड़) थी।

एपल भी इसी राह पर चल रही
फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, एपल ने सर्च पर गूगल की दादागिरी खत्म करने की शुरुआत कर दी है। आईफोन के नए ऑपरेटिंग सिस्टम iOS 14 में एपल ने अपने सर्च रिजल्ट्स दिखाना शुरू किया है। यह पहली बार है, जब एपल के किसी ऑपरेटिंग सिस्टम पर गूगल के सर्च रिजल्ट नहीं दिख रहे।